Redmi के Customer Care से कैसे बात करें - Redmi Customer Care Number

Redmi के Customer Care से कैसे बात करें - Redmi Customer Care Number


Hello friend,s today i,m talking about talk to redmi customer care


In this article you can know how to make call redmi customer care local service centre and know about service centre address. In just few steps. If you are using redmi mobile then you phone is default installed mi store application of redmi company and now you get all states and all district and local area customer care executive phone helpline service. If you need any type of electronic service. You can get home service. 


Let,s talk how to find redmi customer care local phone services.

Redmi के Customer Care से कैसे बात करें - Redmi Customer Care Number



You should open redmi mi store in your mobile then you should go in account dashboard who is available in down of application. Click on account section.

Redmi के Customer Care से कैसे बात करें - Redmi Customer Care Number



Now you should go service centre option or customer care. Click any one of them two option. 

Redmi के Customer Care से कैसे बात करें - Redmi Customer Care Number



You get search bar of your location using your stae selection and then district selection. You find all result of your nearby redmi customer care office. And you also get phone number of redmi customer care office and now you can make call of your local service centre 

जमीन का खतियान कैसे देखे और जमीन का खतियान कैसे पढ़े और समझे

जमीन का खतियान कैसे देखे और जमीन का खतियान कैसे पढ़े और समझे

जमीन का खतियान कैसे देखे और जमीन का खतियान कैसे पढ़े और समझे

हैल्लो दोस्तो आज के इस Article में मैं आपको बताने वाला हूँ कि आप खतियान कैसे देख सकते है या खतियान कैसे देखते है। आज के इस पूरी Article में मैं आपको बताने वाला हूँ।


खतियान कैसे देखे | खतियान कैसे देखते है
खतियान कैसे Download करे | खतियान कैसे Download करते है


आज आप जानेंगे अपने जमीन का खतियान कैसे देखे और खतियान कैसे Download करे। इससे पहले के Article में मैंने बताया है की कैसे आप खतियान को Download कर सकते है और तो और मैंने खतियान Download करने के पाँच तरीके बताए है अगर आप अभी तक नही पढ़े है या अभी पढ़ना चाहते है तो अभी Link पर Click कर के पढ़ लीजिए आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।


Link to Read खतियान कैसे Download करते है - LINK


आज के इस Article में मैं शुरू कर रहा हूँ जमीन का खतियान कैसे देखते है। जमीन का खतियान देखने से पहले कुछ जमीन से जुड़े शब्द है जिनको आपको जान लेना चाहिए कि इन शब्दों का क्या अर्थ होता है। तब आपको देखकर आसानी से समझ में आ जायेगी और उसके बाद आप जब कभी भी जमीन के किसी कागज को देखेंगे तो उसमें से जुड़ी बहुत सी बातें आपको देखने भर से समझ में आ जायेगी। इसलिए शब्दो का अर्थ जानना बहुत जरूरी है। 


शब्द एवं उनके शाब्दिक अर्थ हिंदी में :-


  1. अधिकार अभिलेख
  2. राजस्व
  3. रैयत का नाम
  4. राजस्व थाना नंबर
  5. मौजा
  6. खाता नंबर
  7. खेसरा नंबर
  8. खेत चौहदी
  9. किस्म जमीन
  10. रकवा
  11. दखल या दखल का स्वरूप
  12. नवैयात जमाबंदी नंबर



अधिकार अभिलेख - अधिकार अभिलेख शब्द का अर्थ है, एक प्रकार का प्रमाण पत्र जिसमे किसी भी व्यक्ति के अधिकार का प्रमाण पत्र हो। जब आप खतियान Download करेंगे तो सबसे ऊपर अधिकार अभिलेख लिखा होता है। इसका मतलब होता है कि ये खतियान जिस किसी व्यक्ति का है वो इस अभिलेख का मालिक है। इसलिए ऊपर में अधिकार अभिलेख लिखा होता है।


राजस्व - राजस्व का अर्थ होता है राज्य की आमदनी या राज्य की आय। आप खतियान में सबसे ऊपर देखेंगे कि लिखा है राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग इसका मतलब होता है कि आप जिस राज्य में रहते है उस राज्य के राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग द्वारा इस इस पत्र को निर्गत किया गया है और खतियान और भूमि संबंधी अन्य कार्य का संपादन भी यही से होता है।


रैयत का नाम - रैयत का नाम का अर्थ है किसान का नाम। अगर आप कही भी रैयत का नाम लिखा हुआ पाते है तो इसका अर्थ होता है उस जगह पर किसान का नाम है या लिखना होगा। किसान शब्द से सभी लोग एक बार में समझ जाएंगे लेकिन अमानत की भाषा में शुरुवाती दिनों से किसानों को रैयत कहा जाता है। खतियान में रैयत का नाम बहुत महत्वपूर्ण होता है।


राजस्व थाना नंबर - राजस्व थाना नंबर से अभिप्राय है कि, आपका जमीन कौन से थाना नंबर में है। राजस्व थाना नंबर भी बहुत महत्त्वपूर्ण होता है। अगर हमें जमीन से जुड़े किसी मामलों के बारे में जानकारी थाना नंबर से ही मिलती है। जिस तरह से हर क्षेत्र में पुलिस थाना होता है, बिल्कुल उसी तरह ही जमीन की दुनिया में भी हर क्षेत्र में जमीन थाना होता है। जहाँ जमीन से जुड़े मामलों का निपटारा होता है। 


मौजा - मौजा का अर्थ होता है गाँव, अमीन अमानत और जमीन की दुनिया में गाँव को मौजा के नाम से जानते है। अगर कही भी मौजा लिखा हो तो समझ जाइएगा गाँव का नाम लिखा है या लिखना है। 


खाता नंबर - खाता नंबर से अभिप्राय है कि खाता नंबर एक संख्या है जिसे जमीन के छोटे-छोटे टुकड़े को दर्शाने में मदद करता है। अगर आपके गाँव का नक्शा आपके पास होगा या देखा होगा तो आप देखे होंगे कि गाँव का एक नक्शा बना हुआ है और नक्शे के बीच में छोटा - छोटा टुकड़ा होता है। जो चारो ओर एक पतली सी रेखा से घिरा होता है। उस घिरे हुए क्षेत्र के अंदर एक संख्या अंकित होती है जो जमीन का नंबर होता है। उसी को खाता नंबर कहते है। अगर आपके पास गाँव का नक्शा है तो आप अपने जमीन का नक्शा और खाता नंबर आसानी से देख सकते है। जमीन की दुनिया में जमीन का खाता नंबर अति महत्वपूर्ण होता है। अगर हम अपने जमीन के विषय में कही भी बात करते है या जमीन की जांच करवाते है तो आपको खाता नंबर हमेशा याद रखना होगा। क्योंकि बिना खाता नंबर के आपके जमीन का कोई भी पता नहीं लगा सकता। अगर कोई अमीन भी अगर आपके जमीन की जांच करता है या कोई अन्य काम आपके जमीन से जुड़े तो अमीन सबसे पहले आपको जमीन का नक्शा मांगेगा और उसके बाद आपसे जमीन का खाता नंबर पूछेगा और वही नंबर नक्शा में खोजकर नक्शा के हिसाब से मिलाएगा और जमीन को संतुष्ट करेगा। जमीन का खाता नंबर आपको जमीन रसीद पर और जमीन के खतियान पर भी मिल।जाएगा।


खेसरा नंबर - खेसरा नंबर भी एक तरह का संख्या है जो नक्शा में जमीन को ढूंढने में मदद करता है। ये नंबर ज्यादा चर्चित नही है लेकिन आपके ये नंबर आपके खतियान पर और जमीन के रसीद पर मिल जाएगा। 


खेत चौहदी - खेत चौहदी से मतलब है कि आपके जमीन के चारो दिशा में कौन -कौन से नंबर के खेत है और उनके मालिक कौन है आदि अन्य जानकारी के साथ उपलब्ध होती है। खेत चौहदी नक्शा पर नही मिलेगा लेकिन ये आपको जमीन के खतियान पर देखने को जरूर मिल जाएगा।


किस्म जमीन - किस्म जमीन से अर्थ है कि जमीन कई किस्म के होते है जैसे खेतिहर, भीठ, धनहर, मकान और अन्य। अगर आप जमीन की पूर्ण जानकारी लेंगे तो आपको जमीन के किस्म का भी पता चल जाएगा कि यह जमीन किस प्रकार का है और किस योग्य है। इस बात की जानकारी आपको जमीन के खतियान में और जमीन के रसीद में भी मिल जायेगी।


रकवा - रकवा का अर्थ है जमीन का क्षेत्रफल, जमीन के भाषा में क्षेत्रफल को रकवा कहते है। जमीन के भाषा में जमीन का क्षेत्रफल का इस्तेमाल क्षेत्रीय भाषानुशार किया जाता है और अन्य भाषा है जो ज्यादा लोकप्रिय है जैसे जमीन का माप एकड़ में, जमीन का माप बीघा में, जमीन का माप कट्ठा में और जमीन का न्यूनतम माप इकाई धुर में। अगर आप अपने जमीन के खतियान पर और रसीद पर देखेंगे तो आपको जमीन का क्षेत्रफल इसी भाषा में मिल जाएगा।


दखल या दखल स्वरूप - दखल से स्पष्ट है कि हमारे भाषा में दखल को।समझते है कि कोई जबरदस्ती जमीन पर कब्जा करके अपने दखल में कर लिया है। अगर जमीन इस तरह की स्तिथि में है कि जमीन कोई व्यक्ति दखल कर लिया है लेकिन जमीन का मालिक अपने मर्जी से न बेचकर बल्कि मजबूरी में बेचा है और उस जमीन पर जमीन के खरीदारी खरीदार द्वारा तय होता है उसे दखल कहते है। अर्थात जमीन मालिक के न चाहते हुए भी जमीन बेचना पड़े।


नवैयात जमाबंदी नंबर - जमाबंदी नंबर एक संख्या होता है जो जमीन को चिन्हित करता है। ये जमाबंदी नंबर आपको जमीन के खतियान पर और जमीन के रसीद पर देखने को मिल जाएगा। जमाबंदी नंबर का इस्तेमाल इंटरनेट से जमीन से जुड़ी कोई फाइल डाउनलोड करने के लिए किया जाता है। जमाबंदी नंबर से आपको जमीन के सरकारी कार्यालय में आपके सारे Records को आसानी से ढूंढ सकते है।


नीचे में मैं एक खतियान का फोटो डालकर आपको कम शब्दों में बताऊंगा ताकी अभी आप एक खतियान को देखकर अन्य खतियान को भी आसानी से देख सकते है

जमीन का खतियान कैसे देखे और जमीन का खतियान कैसे पढ़े और समझे


यहाँ ऊपर में आप वो सारी चीजें देख सकते है। जिसके बारे मैंने एक - एक करके बताया है। जमीन से जुड़े कोई भी दस्तावेज देखने के लिए और जानकारी जुटाने के लिए इतनी जानकारी आम आदमी के लिए काफी होती है। इसको देखने के बाद हमे लगता है आप इतना जरूर समझ जाएंगे कि कोई भी जमीन का कागज किसका है, जमीन कैसा है, कितना जमीन है, जमीन के अगल-बगल में कौन है, जमीन का खाता नंबर क्या है, जमीन का खेसरा नंबर क्या है, कौन से थाना का नंबर है, कौन से गाँव का जमीन है।


आगे के Article में हम बताएंगे की कैसे आप जमीन की खरीद-बिक्री सुरक्षित रूप में कर पाएंगे और जमीन के खरीदने और बेचने का प्रक्रिया क्या है?


आज के इस Article में हमने जो कुछ भी सीखा है उसे मैं निम्नलिखित रूप में क्रम से दिया है जिसे आप एक बार देखकर थोड़ा सोच सकते है और अपने यादों को मजबूत कर सकते है।


  1. अधिकार अभिलेख
  2. राजस्व
  3. रैयत का नाम
  4. राजस्व थाना नंबर
  5. मौजा
  6. खाता नंबर
  7. खेसरा नंबर
  8. खेत चौहदी
  9. किस्म जमीन
  10. रकवा
  11. दखल या दखल का स्वरूप
  12. नवैयात जमाबंदी नंबर


See You Soon | Good Bye


Article File In Jpeg


जमीन का खतियान कैसे देखे और जमीन का खतियान कैसे पढ़े और समझे


Khatiyan Kaise Download Kare Ya Khatiyan Kaise Dekhe in hindi

Khatiyan Kaise Download Kare Ya Khatiyan Kaise Dekhe in hindi

Khatiyan Kaise Download Kare Ya Khatiyan Kaise Dekhe in hindi

हैल्लो दोस्तो आज के इन Article में मैं आपको बताने वाला हूँ की, कैसे आप जमीन का खतियान Download कर सकते है और जमीन का खतियान कैसे देखना है वो सब कुछ आज के इस Article में मैं आपको बताने वाला हूँ। इस Article में मैं आपको फोटो द्वारा Direction देकर समझाने वाला हूँ ताकि आपको बहुत अच्छे से समझ में आ जाए। लेकिन सबसे पहले मैं आपको खतियान कैसे निकालते है या खतियान कैसे Download करते है इसके बारे में बताने वाला हूँ। 


खतियान कैसे निकालते है या खतियान कैसे Download करे :-


दोस्तो सबसे पहले आपको Google पर जाना है या किसी भी Browser मैं जहाँ से आप Internet चलाते है। वहाँ पर आपको जाना है और आपको Search करना है, Bihar Bhulekh आप इस Article को पढ़कर भारत में किसी भी राज्य का खतियान Download कर सकते है। इसलिए आप जिस भी राज्य से या जिस भी राज्य का खतियान आपको निकालना हो आप Google पर राज्य के नाम लिखकर भूलेख लिखेंगे। जैसे कि मुझे बिहार का खतियान निकालना है इसलिए मैं Bihar Bhulekh लिख रहा हूँ। बिल्कुल उसी तरह आपको State के नाम के साथ Bhulekh Search करना है। मैं इस Article मैं Bihar का खतियान निकाल कर दिखाने वाला हूँ। Search करने के बाद आपको नीचे मैं एक Link मिलेगा जैसा कि आप Photo मैं देख रहे है। आपको बिल्कुल उसी Link पर Click पर करना है।

Khatiyan Kaise Download Kare Ya Khatiyan Kaise Dekhe in hindi


Link पर Click करने के बाद आपको उस State के सभी District दिखाई देंगे। आपको जिस किसी भी District का खतियान निकालना हो आप उस District पर Click करना है। जैसा कि नीचे के फोटो में दिखाया गया है।


District पर Click करने के बाद आपको उस District के सभी Block दिखाई देंगे। अब आपको जिस किसी भी Block का खतियान निकालना है आप उस Block पर Click करेंगे। जैसे कि नीचे के फोटो में दिखाया गया है। 


अब आप नीचे के फोटो देखकर समझ जाएंगे कि जैसे जैसे आपने Select किया था बिल्कुल उसी तरह से देख पाएंगे। आप पहले District किए थे उसके बाद Block Select किया था तो Block select करने के अनुसार आपके अनुमंडल और अंचल भी Automatic Select हो जाएगा। अब आपको अपना मौजा Select करना है। मौजा का मतलब होता है ग्राम अर्थात गाँव Select करना है। जिसको आप मौजा जहाँ लिखा है उसको Scroll करके मतलब मौजा के List को घसीटकर आप वो मौजा चुनेंगे जो आपका मौजा हो। या तो आप बगल के दिए Keyboard से अपने मौजा का पहला नाम लिखेंगे तो वो पूरा नाम आ जाएगा। तो आपको बिल्कुल उस मौजा पर Click कर देना है जो आपका मौजा हो। उसके बाद आप अपने खतियान को पाँच तरीके से देख सकते है। जैसे की मैं नीचे में क्रमानुसार बता रहा हूँ। 

Khatiyan Kaise Download Kare Ya Khatiyan Kaise Dekhe in hindi


खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - मौजा के समस्त खातों को नामानुसार देखें

खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - मौजा के समस्त खातों को खेसरा संख्या के अनुसार देखें

खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खाता संख्या से देखें

खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खेसरा संख्या से देखें

खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खाताधारी के नाम से देखें


तो दोस्तो इन पांच तरीको से आप अपने खतियान को Download कर सकते है या खतियान को देख सकते है। मैं इन पांचों तरीको के बारे में आपको एक-एक करके बताने वाला हूँ। 


सबसे पहला तरीका है, खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - मौजा के समस्त खातों को नामानुसार देखें अगर आप इस Option से देखना चाहते है तो आप इसको Select करके नीचे खाता खोजे पर Click करेंगे। उसके बाद आप मौजा के सभी खतियान को किसान के नाम से या जमीन के मालिक के नाम के अनुसार खोज पाएंगे। और जब आपको इस List में नाम मिल जाए तो आप उस पर Click करेंगें उसके बाद आप अधिकार अभिलेख देखें पर Click करेंगे और आप अपने खतियान को देख पाएंगे और आप इसे PDF Format में Download कर पाएंगे। 


दूसरा तरीका है, खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - मौजा के समस्त खातों को खेसरा संख्या के अनुसार देखें अगर आप इस System से खतियान Download करना चाहते है तो आपको इस List में आपके खेसरा संख्या से ढूंढना होगा। आप इस Option पर Click करके खाता खोजे पर Click करना है। उसके बाद आप खेसरा संख्या को ढूंढकर Click करेंगें उसके बाद आप अधिकार अभिलेख पर Click करके आप अपने खतियान को देख सकते है और चाहे तो आप इसे PDF Format में भी Download कर सकते है। 


तीसरा तरीका है, " और ये तरीका सबसे Best है हमारे हिसाब से " खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खाता संख्या से देखें इस Option पर Click करके आपको अपने जमीन का खाता संख्या डालना होगा, सभी जमीन के खाता संख्या अलग-अलग होते है। आप खाता संख्या अपने जमीन के किसी भी कागज पर देख सकते है क्योंकि जमीन की जब भी बात होती है तो सबसे पहले उसके खाता संख्या से ही शुरू होती है। आप अपने जमीन के खाता संख्या को बगल के खाली स्थान में डालेंगे। उसके बाद आप खाता खोजे पर Click करेंगे। इसके बाद आपको नीचे एक नाम दिखाई देगा जो इसी खाता संख्या के जमीन के मालिक के साथ नाम जुड़ा होगा। आपको बिल्कुल आसानी से अधिकार अभिलेख देखे पर Click करना है और आपको आपका खतियान देखने को मिल जाएगा अगर आप चाहे तो इसे PDF Format में भी Download कर सकते है। ये बहुत ही आसान तरीका है और बहुत ही कम समय में आप अपने खतियान को डाउनलोड कर सकेंगे।


चौथा तरीका है, " और ये तरीका भी बहुत आसान है " खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खेसरा संख्या से देखें इस System में आपको खेसरा संख्या देखे Option पर Click करके आपको अपने जमीन का खेसरा संख्या डालना है। खेसरा संख्या भी आपको जमीन के किसी भी कागज पर या जमीन के किसी भी रसीद पर मिल जाएगा आप आसानी से उसे यहाँ डाल सकते है और खाता खोजे देखे पर Click कर सकते है। उसके बाद आपको आपको आपका List मिल जाएगा। आपको अधिकार अभिलेख देखे पर Click करना है उसके बाद आप अपने खतियान को देख सकते है या आप अपने खतियान को Download कर सकते है। Download Format PDF में होगा।


सबसे आखिर और पाँचवा तरीका है, खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खाताधारी के नाम से देखें इस Option में आप नाम डालकर अपने खतियान को Download कर सकते है। इस प्रक्रिया में आपके मौजा में जितने भी व्यक्ति होंगे जिस नाम से आप खोज रहे है वो सभी आपको दिखाई देंगे उसके बाद आप अन्य जानकारी जैसे पिता का नाम, खाता संख्या और खेसरा संख्या के आधार पर आप उस नाम पर Click कर सकेंगे और खतियान देख सकेंगे और आप खतियान को Download भी कर सकते है अधिकार अभिलेख देखे पर Click करके। और तो और आप खतियान को PDF Format में Download कर सकेंगे या आप Screenshoot भी ले सकेंगे। 


नाम Search करने का तरीका है आपको खाताधारी का नाम अंग्रेजी के अक्षरों में लिखना है और Space का Button दबाना है Button दबाने के साथ ही आपका नाम हिंदी में Translate हो जाएगा और आप पूरा नाम हिंदी में लिख सकेंगे। 


तो दोस्तो आप बिलकुल इसी पाँच तरीके से भारत के किसी भी राज्य के किसी भी क्षेत्र के जमीन के खतियान को निकाल सकेंगे और आप इसे Download भी कर सकेंगे PDF Format में। ये निम्न पांच तरीके है।

Khatiyan Kaise Download Kare Ya Khatiyan Kaise Dekhe in hindi


खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - मौजा के समस्त खातों को नामानुसार देखें


खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - मौजा के समस्त खातों को खेसरा संख्या के अनुसार देखें


खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खाता संख्या से देखें


खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खेसरा संख्या से देखें


खतियान कैसे Download करे या खतियान कैसे देखे - खाताधारी के नाम से देखें


खतियान Download करने का खतियान निकालने के काफी विशेष फायदे है और फायदे से ज्यादा ये जरूरत पड़ने पर ही लोग निकालते है। तो दोस्तो अब हम मिलते है जमीन से जुड़े कोई अन्य Topic के साथ अगर आप विशेष जानकारी चाहते है तो नीचे में आप जमीन से जुड़े बहुत से Article पढ़ सकेंगे।


See you Soon | See you Again


FILE IN JPEG FORMAT

Khatiyan Kaise Download Kare Ya Khatiyan Kaise Dekhe in hindi



Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone

Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone

CLICK HERE FOR PURCHASE - MRP : 390

Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone
Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone

PRODUCT DETAIL

MODEL NAME - WIRED HEADPHONE
COLOUR - BLACK
HEADPHONE TYPE - WIRED OVER HEAD
WITH MICROPHONE - YES

DIMENSIONS
WIDTH - 152.4 MM
HIGHT - 190.5 MM
DEPTH - 38.1 MM
WEIGHT - 149.4 G

MORE INFORMATION

GENERIC NAME - HEADPHONE
COUNTY OF ORIGIN - INDIA
IMPORTER DETAILS - DHIRAJ KUMAR, SITAMARHI BIHAR, DUMRA ROAD, 843302, BIHAR INDIA 

Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone
Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone

PRODUCT SPECIFICALLY

SOUND QUALITY - this headset deliver sound quality that is crisp and strong at any volume as it feather a combination of triport technology and active EQ.

CLEARER CALLS FOR BETTER COMMUNICATION

This headset features an advance microphone system provides clear calls if the environment you are in is windy or noisy. The inhanced sidetone features of this headset makes your voice sound clearer at the other end.

COMFORT AND DURABILITY

This India headset is made of light weight and durable materieals that are also engineered to be impact-resistant.

SLEEK PROTECTION CASE

Strong of this headset is hassle-free as these headphone fold flat into the matching slim protective case. Carry it with you where ever you go. 

Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone
Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone

RATING & REVIEW 

SOUND QUALITY - 4.4 / 5
BASS - 3.1 / 5 
DESIGN AND BUILD - 4.7 / 5
STRONGER - 4.8 / 5

BEST DEAL FOR THIS PRODUCT 

CLICK HERE FOR BEST PRICE PURCHASED

Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone
Best Wired Headphone In Cheap Price - Best Ear Headphone

मोबाइल की संख्या और मोबाइल के दीवानापन और मोबाइल के अजूबे काम । number of mobile and mobile lover and mobile,s wonderful work.

मोबाइल की संख्या और मोबाइल के दीवानापन और मोबाइल के अजूबे काम । number of mobile and mobile lover and mobile,s wonderful work.



मोबाइल की बात कर रहे हैं तो यह जान लीजिए की  अभी का जो समय चल रहा है । उसमें मोबाइल के बिना एक पल की भी सांस भी नहीं है । क्योंकि लोग सोने से पहले और उठने के बाद हमेशा मोबाइल के साथ होते हैं । मोबाइल में इस तरह की सुविधा होते हैं कि । एक मोबाइल के जरिये आप अपनी जिंदगी की सारी जरुरते और शौक पूरा कर सकते हैं ।


मोबाइल की संख्या की बात करने से पहले आप यह भी जान लीजिए की । पहले तो लोग बटन वाले मोबाइल का प्रयोग करते थे । तब भी मोबाइल की संख्या इतनी नही थी । लेकिन आज के समय में इतने स्मार्ट मोबाइल हो चुके हैं की हर किसी के पास बड़ी-बड़ी मोबाइल होती है । यहां तक कि रिक्शा-ठेला और भिखारी भी बड़ी बड़ी मोबाइल रखते हैं । क्योंकि मोबाइल ऐसा चीज है की इंसान को कभी भी अकेलापन महसूस नहीं होने देता ।


मोबाइल में नेट की सुविधा होने के कारण मोबाइल और भी रोमांचक चीज बन गई है । हर तरह की जानकारी और मनोरंजन आदमी नेट के सहारे ले सकता है । इस कारण से मोबाइल सर्वाधिक लोकप्रिय हो चुका है ।

मोबाइल के दीवानेपन की बात करे तो लोग इतने दीवाने हैं कि लोग खाते-पीते , सोते हर वक्त भी मोबाइल का इस्तमाल करते रहते हैं । और कुछ लोग तो मोबाइल पर अपने शौक का भी काम करते हैं ।

आजकल के बढ़ते समय में मोबाइल इतना विकास हो चुका है कि । मोबाइल से लोग अजूबे-अजुबे काम कर रहे हैं । मोबाइल में इस तरह के सुविधा होते हैं की लोग घर बैठे-बैठे पैसा भी कमाते है । और अजीबो - गरीबो  टेक्निकल काम करके दूसरों को हैरान कर देते हैं । और मोबाइल भी बहुत खतरनाक है अगर आप इसका गलत इस्तेमाल करते हैं ।


           मोबाइल के जमाने मोबाइल बिना कुछ भी नहीं है


दोस्तो आप पढ़ रहे है hellodhiraj.in

आपको यहां पर मिलता है सबसे बेहतर जानकारी । बेहतरीन तरीको से जो आपको हमेशा याद रहेगा । और आपके पढ़ाई और प्रतियोगी परीक्षा में यहां से बहुत सारी जानकारियां मिलेगी ।

आप मेरे facebook page और youtube पर आ सकते है ।

facebook - www.facebook.com/dhirajkumarraj43
youtube - www.youtube.com/dhirajisagreatthought

आपका धन्यवाद ••••

मां का दिल , मां का व्यवहार , मां का प्यार , मां का त्याग और मां की जिंदगी । mother,s heart , mother,s behaviour , mother,s love , mother,s sacrifice and mother,s life .

मां का दिल , मां का व्यवहार , मां का प्यार , मां का त्याग और मां की जिंदगी ।  mother,s heart , mother,s behaviour , mother,s love , mother,s sacrifice and mother,s life .



मां कितना प्यारा नाम है । यह बोलते हुए एक प्रकार का गर्व महसुस होता है और खुशी भी होता है । मां ही तो सब-कुछ है जो हमारे लिए हमेशा अच्छा कहती है , और हमेशा अच्छा करने को कहती है ।

एक बात जान ले आपकी दुनिया में मां का जो प्यार है । वो दुनिया के किसी भी कोने में नहीं मिलेगा । भले कितनी मां प्यार नहीं जताती है । लेकिन वो भी हमेशा उतना ही प्यार करती है । पूरे दुनिया में मां-बाप और शिक्षक ही ये तीन है जो हमेशा चाहते हैं कि यह हमसे भी अच्छा करे । और दुनिया में नाम , शोहरत और दौलत कमाए । इसके अलावा आपका कोई भी हित प्रेम नहीं हो सकता । क्योंकि वे आपको अपने से आगे नहीं देखना चाहते । और जरुरत पड़ने पर खिसका भी देते हैं । जिंदगी में दोस्त भी ज़रूरी होता है लेकिन जिंदगी उनके नाम करने की बेवकूफी  ना करे । क्योंकि आपका कीमती समय आपके दोस्त के लिए होगा , और आपका बुरा वक्त सिर्फ आपका ।

लेकिन मां एक ऐसा शब्द है जो हमेशा आपको आपके गलती पर माफ कर देगी । और आपको हमेशा आगे बढ़ने को कहेगी । आपके लिए वह अपने जिंदगी में हमेशा सब कुछ तैयार करने को तैयार रहती  है ।

मां का प्यार अदृश्य होता है । वो हमको नहीं दिखाई देती । मां हर हाल में हमारे साथ होती है । वो हमारे खुश मैं शामिल होती है , वो हमारे दुख में शामिल होती है । और फिर भी हौसला नहीं हारती ।  और अपने लिए और अपने बच्चों के लिए किसी भी समस्या से लड़ने को तैयार रहती है मां ।

मां की जिंदगी में मां अपने बच्चे के लिए हमेशा त्याग करती रहती है ।वो  अपने खुशी और शौक को मारकर वो अपने बच्चे की खुशी को पूरा करते हैं ।


दोस्तो आप पढ़ रहे है hellodhiraj.in

आपको यहां पर मिलता है सबसे बेहतर जानकारी । बेहतरीन तरीको से जो आपको हमेशा याद रहेगा । और आपके पढ़ाई और प्रतियोगी परीक्षा में यहां से बहुत सारी जानकारियां मिलेगी ।

आप मेरे facebook page और youtube पर आ सकते है ।

facebook - www.facebook.com/dhirajkumarraj43
youtube - www.youtube.com/dhirajisagreatthought

आपका धन्यवाद ••••

रामायण कथा की शुरुआत कैसे हुई? राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत का जन्म कैसे हुआ? How did the Ramayana story begin? How were Rama, Lakshmana, Shatruhan and Bharata born?

How did the Ramayana story begin? How were Rama, Lakshmana, Shatruhan and Bharata born?
रामायण कथा की शुरुआत कैसे हुई? राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत का जन्म कैसे हुआ? How did the Ramayana story begin? How were Rama, Lakshmana, Shatruhan and Bharata born?


रामायण कथा की शुरुआत कैसे हुई? राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत का जन्म कैसे हुआ?


रामायण कथा का परिचय, Introduction to Ramayan katha :-
रामायण कथा में आयोध्या के राजा 'राजा दशरथ' और उनके चारो पुत्र राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत सहित उनके सारे परिवार से जुड़ी हर घटनाओं और उनके हर एक गतिविधि एवं प्रत्येक क्षण का वर्णन है। रामायण कथा को पुस्तक में उतारने वाले व्यक्ति वाल्मीकि जी है। वाल्मीकि जी ने भगवान राम के जन्म से पहले ही पूरी रामायण कथा लिख दी थी।

रामायण कथा का शुरुआत कैसे हुई, How did the Ramayan Story begin :-
रामायण कथा का प्रारंभ आयोध्या नगरी से होती है। आयोध्या नगरी कौशल प्रदेश राज्य में थी जिसकी स्थापना राजा दशरथ के वसंज वैवस्वत मनु ने की थी। कौशल प्रदेश राज्य सरयु नदी के किनारे बसा है। आयोध्या नगरी कौशल देश की राजधानी थी। राजा दशरथ के खंदान में बहुत ही महान राजा थे उनमें से राजा दशरथ भी एक थे। राजा दशरथ बहुत ज्ञानी, विद्धवान और अच्छे राजा थे। राजा दशरथ अपने प्रजा की देख-भाल भी बेहतर तरीके से करते थे। राजा दशरथ दयालु, सत्यनिष्ठ और ईश्वरभक्त थे।
रामायण कथा का शुरुआत कैसे हुई, How did the Ramayana story begin :-

राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत के जन्म कैसे हुए, How Ram, Lakshman, Shatruon and Bharat were born:-
राजा दशरथ के तीन पत्नी थी पहली पत्नी कौशल्या, दूसरी कैकयी और तीसरी पत्नी सुमित्रा थी। महाराज दशरथ के शादी के काफी दिन हो गए थे और राजा दशरथ भी वृद्धा अवस्था में जाने लगे। राजा दशरथ को एक बात सताने लगी कि मेरे बाद इस राज्य का उत्तराधिकारी कौन होगा। राजा दशरथ को काफी चिंतन करने के बाद एक बात सूझी पुत्रयेष्टि यज्ञ करने की। यह बात राजा दशरथ अपने कुल गुरु वशिष्ठ को बताया। सूर्यवंशी कुलगुरु वशिष्ठ ने इस बात से सहमत हुए और बोले पुत्रयेष्टि यज्ञ करने से जरूर आपको पुत्र की प्राप्ति होगी। राजा दशरथ ने यह बात अपने तीनो पत्नी को बताई। पुत्रयेष्टि यज्ञ की बात सुनकर महाराज की तीनों पत्नी बहुत खुश हुई। महाराज ने यज्ञ करने की सारी व्यवस्था करने लगे। यज्ञ करने का स्थान सरयु नदी के किनारे को चुना गया। महाराज दशरथ ने सरयू नदी के तट पर सुसज्जित एवं अत्यन्त मनोरम यज्ञशाला का निर्माण करवाया तथा मन्त्रियों और सेवकों को सारी व्यवस्था करने की आज्ञा दिए। महाराज दशरथ ने देश देशान्तर के मनस्वी, तपस्वी, विद्वान ऋषि-मुनियों तथा वेदविज्ञ प्रकाण्ड पण्डितों को यज्ञ सम्पन्न कराने के लिये बुलावा भेज दिया। सभी व्यक्ति यज्ञ स्थल पहुंचकर यज्ञ के क्रियाकलापों को सम्पन्न किया और सभी विद्धवान और ब्राह्मणों को आदर सहित सभी प्रकार भेंट देते हुए विदा किये। राजा दशरथ ने यज्ञ के प्रसाद को अपने महल में ले जाकर अपनी तीनों पत्नी में बाँट दिया। तीनो महारानी के प्रसाद ग्रहण करने के उपरांत भगवान की कृपा से तीनों रानियों ने गर्भधारण किया।
राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत के जन्म कैसे हुए, How Ram, Laxman, Shatruhan and Bharata were born:-

राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत के जन्म क्षण, Birth moments of Ram, Lakshman, Shatrughan and Bharata:-
जब चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को पुनर्वसु नक्षत्र में सूर्य, मंगल शनि, वृहस्पति तथा शुक्र अपने-अपने उच्च स्थानों में विराजमान थे, कर्क लग्न का उदय होते ही महाराज दशरथ की बड़ी पत्नी कौशल्या के गर्भ से एक शिशु का जन्म हुआ जिसे श्री राम कहा जाने लगा इसके पश्चात् शुभ नक्षत्रों और शुभ घड़ी में महारानी कैकेयी के गर्भ से एक शिशु का जन्म हुआ जिसे भरत कहा जाने लगा तथा तीसरी रानी सुमित्रा के गर्भ से दो तेजस्वी पुत्रों का जन्म हुआ जिसे लक्ष्मण और शत्रोहन कहा जाने लगा।

राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत के नामकरण, Naming of Ram, Lakshman, Shatrughan and Bharata:-
वैसे इन सभी राजकुमारों का नामकरण जन्म के बाद में हुआ राजा दशरथ के चारों पुत्रों का नामकरण और संस्कार महर्षि वशिष्ठ के द्वारा कराया गया जो सूर्यवंशी कुलगुरु थे तथा उनके नाम रामचन्द्र, भरत, लक्ष्मण और शत्रुघ्न रखे गये।

राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत के प्रभाव, Effects of Rama, Lakshmana, shatrughan and Bharata:-
राजा दशरथ के चारो पुत्र देवता थे जो धरती पर मानव रूप में आये थे। श्री राम भगवान विष्णु के अवतार थे जो धरती पर रावण को मारने के लिए अवतार लिए थे। और अन्य पाप कर्म को खत्म करके धरती पर धर्म का ज्ञान देने के लिए आये थे। लक्ष्मण जी शेषनाग के अवतार थे जो क्षीरसागर में भगवान विष्णु का आसन है। और वे धरती पर श्री राम के भाई के रूप में अवतार लिए थे। और वे पूरे समय श्री राम के साथ रहे और हर दुःख और सुख में श्री राम के साथ रहे। और शत्रोहन जी सुदर्शन-चक्र और भरत जी शंख-शैल का अवतार में धरती पर आए थे। विष्णु रूप श्री राम के इर्द-गिर्द जितने भी सजीव और निर्जीव वस्तु एवं व्यक्ति थे वे सभी देवता थे और तो और श्री राम के सेवा एवं सुख के लिए कितने देवता के पुत्र ने भी धरती पर जन्म लिया। श्री राम स्वयं भगवान विष्णु के रूप थे। ये बात लोगो को मालूम नही थी लेकिन उनके कामो को देखकर सभी को यह लगता था कि ये कोई साधारण मनुष्य नही है। लेकिन कुछ विद्धवान और महागुरु को उनको देखते ही मालूम चल जाता की ये साक्षात भगवान विष्णु के रूप है। श्री राम एक आदर्शवादी और पुरुषोत्तम व्यक्ति थे। वे अपने व्यवहार से सभी लोगो को लुभा कर रखते थे। वे स्वयं भगवान विष्णु ही थे जो रावण का वध करने के लिए धरती पर अवतार हुए थे।
राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत के प्रभाव, Effects of Rama, Lakshmana, Shatruhan and Bharata:-

राम, लक्ष्मण, शत्रोहन और भरत का बचपन, Childhood of Ram, Lakshman, Shatrughan and Bharata:-
राजा दशरथ के चारो पुत्र बचपन से ही बहुत श्यामवर्ण, अत्यन्त तेजोमय, परम कान्तिवान तथा अद्‍भुत सौन्दर्यशाली थे। उन चारों शिशु को देखने वाले ठगे से रह जाते थे। उनका बचपन अत्यंत सुंदर था। उन चारों राजकुमारों का उपनयन संस्कार उनके कुलगुरु वरिष्ठ जी ने किया है और उन सभी राजकुमारों का प्राथमिक शिक्षा कुलगुरु वरिष्ठ जी ने ही दिया है। और वे सभी राजकुमार बहुत कम समय में काफी योग्य और पूर्ण हो गए।

रामायण के सभी भागों को कांड लिखकर दर्शाते हैं और ये बालकांड का भाग है। आगे में हम श्री राम एवं देवी सीता के विवाह की कथा लिखेंगे।